न्यूज़ हेडलाइंस Post

Followers

यह ब्लॉग समर्पित है!

"संत श्री 1008 श्री खेतेश्वर महाराज" एवं " दुनिया भर में रहने वाले राजपुरोहित समाज को यह वेबसाइट समर्पित है" इसमें आपका स्वागत है और साथ ही इस वेबसाइट में राजपुरोहित समाज की धार्मिक, सांस्‍क्रतिक और सामाजिक न्‍यूज या प्रोग्राम की फोटो और विडियो को यहाँ प्रकाशित की जाएगी ! और मैने सभी राजपुरोहित समाज के लोगो को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी को राजपुरोहित समाज के लोगो को खोजने में सुविधा हो सके! आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं तो फिर तैयार हो जाईये! "हमारे किसी भी वेबसाइट पर आपका हमेशा स्वागत है!"
वेबसाइट व्यवस्थापक सवाई सिंह राजपुरोहित-आगरा{सदस्य} सुगना फाऊंडेशन-मेघलासिया जोधपुर 09286464911

मेरे साथ फेसबुक से जुडिए

11.8.17

राजपुरोहित समाज का एक युवा 12 साल से लापता, मां कर रही अभी भी इंतजार

राजपुरोहित समाज का एक युवा 12 साल से लापता, मां कर रही अभी भी इंतजार

जालोर. जालोर जिले के सायला तहसील के चौराऊ गांव में  एक मां को बारह साल से अपने लापता बेटे का इंतजार है। जब भी गांव में बेंगलोर से कोई आता है, तो मां को लगता है कि इस बार तो उसके खोए हुए बेटे का कोई समाचार आया होगा।  एक बाप को अब अपने बुढ़ापे की लाठी का इंतजार है। जालोर जिले के सायला क्षेत्र के चौराऊ निवासी ७० वर्षीय जीवाराम राजपुरोहित चाय की थड़ी चलाकर अपने परिवार का पालन पोषण कर रहे है। जीवाराम के परिवार मे  सात  सदस्य है। जीवाराम ने बताया कि उनका  बेटा मोहनलाल करीब १२ साल पहले घर से कमाने के लिए दक्षिण भारत मे बैंगलोर गया था। वहां पर उसकी खुद की दुकान थी। घर से जाने के बाद दुकान पहुंचने तक उससे सम्पर्क रहा। लेकिन उसके बाद से उनकी अपने बेटे से कभी बात नहीं हुई।  जीवाराम ने  बताया कि उन्होंने अपने बेटे की काफी  खोजबीन भी की। लेकिन कोई पता नही लगा ।
            मोहनलाल जिस समय बेंगलोर गया था। उस समय उसके एक साल का पुत्र भी था। जो अब तेरह साल का हो गया है। जीवाराम ने बताया कि उसने चाय की थड़ी एवं लोगों से कर्जा लेकर अपनी चार बेटियों की शादी करवा दी। लेकिन आज  परिवार मे ७ सदस्यों का भरण पोषण करने के लिए यह चाय की थड़ी से गुजारा मुश्किल हो रहा है।  एक मात्र सहारा है। उन्होंने बताया कि अब शरीर ने भी जवाब दे दिया है। मेहनत भी नहीं हो ही है। जीवाराम ने बताया कि उन्हें अपने बेटे के लौटने का आज भी इंतजार है।  चौराऊ निवासी जीवाराम पुरोहित की पारिवारिक स्थिति अच्छी नहीं है। वे जैसे तैसे कर अपने परिवार का पालन पोषण कर रहे है। आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होने से अब भी उनका परिवार कच्चे मकान में निवास कर रहा है।   मोहनलाल की मां ने बताया कि उसे अपने बेटे के लौटने का इंतजार है। वह अपनी पुत्रवधु  को हर पल दिलासा देती है कि मोहनलाल जरूर लौटेगा।  वह पौते को भी हमेशा दिलासा देती रहती है। मोहनलाल का १३ साल के बेटे को भी अपने पापा के आने का इंतजार है।

    News By voice of Rajpurohit Patrika
                    (Facebook Page)

इस खबर को अधिकाधिक शेयर करे। शायद आपके शेयर से एक मां को उनका खोया बेटा मिल जाए।


No comments:

Post a Comment

Thank u Plz Join fb Page
https://www.facebook.com/rajpurohitpage

हिंदी में लिखिए अपनी...

रोमन में लिखकर स्पेस दीजिए और थोड़ा सा इंतजार कीजिए .... सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिया जैसे :- Ram (स्पेस) = राम
अब इस कॉपी करे और पेस्ट करे...सवाई आगरा

आपका लोकप्रिय ब्लॉग अब फेसबुक पर अभी लाइक करे .



Like & Share

Share us

ट्विटर पर फ़ॉलो करें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Nivedan Hai